Pages

Wednesday, September 17, 2008

एक प्रश्न : गंगा से

गंगा! यह तेरा उद्वेलन है या मेरे अंतर्मन का?
उठते-गिरते भाव मेरे हैं या नर्तन है लहरों का?
इंगित करता आरोह लहर का
जीवन के उत्कर्षों को,
व्याकुल होता तब स्निग्ध हास
अधरों पर तिर जाने को।
गंगा! यह कल-कल नाद हर्ष है या विषाद मेरे मन का?
अस्फुट स्वर यह मेरा है या गायन है लहरों का?
भय क्षण प्रतिक्षण बढ़ता जाता
देख लहर के अवरोहों को,
स्तब्ध, शांत, क्लांत मन मेरा
ढूंढें जल-खंडों में अपनों को।
गंगा! यह तेरा सत्य-बोध है या निबोध मेरे मन का?
विक्षिप्त नयन ही मेरे हैं या तिरोधान है लहरों का?
नूपुर-ध्वनि मेरी आई है
विस्मृत करने पदचापों को,
गंगा! मत मूक बनो आओ
खुद में मुझे समाने को।
गंगा! मेरा अस्तित्व मिटा या मिला तुझे इतिहास नया?
शोर उठा, क्रंदन मेरा है या अट्टहास है लहरों का?
मेरे मन के अभियोग रमे
तेरे तल की गह्वरता में,
जीवन का विस्तार दिखा
तेरी गति की सत्वरता में।
गंगा! यह मेरा कल्प-विचर है या सुयोग तेरे सत् का?
चिर-विश्वास अटल मेरा है या विधान है यह विधि का?
मैं मूक रहूँ या कुछ कह लूँ
बोलो गंगे! क्या कहती हो?
अपने अन्तर के मंथन का
नवनीत लिए तुम बहती हो।
गंगा! बहती ले स्निग्ध भाव तू या कषाय मेरे मन का?
सागर से मिल पूछ बताना आदि-अंत इस जीवन का.....

10 comments:

  1. बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति है......आशा है जल्दी ही आपकी दूसरी रचनाये भी पढने को मिलेंगी....शुभकामनाये.

    ReplyDelete
  2. गंगा! मत मूक बनो आओ
    खुद में मुझे समाने को l
    गंगा! मेरा अस्तित्व मिटा या मिला तुझे इतिहास नया?
    शोर उठा, क्रंदन मेरा है या अट्टहास है लहरों का?

    aapka lekhan anubhutiyon ki gehrayee liye hai, yah anubhutiyon ki ganga aksar bahir se andar jati hai, taki andar ka khanan kar sake us star tak jahan, na shabd ho na nishabd, na gyan ho na agyan, bas ho apna satva....aaur kuchh khanan karne ke liye na rahe. Bas....achha laga. salam !

    ReplyDelete
  3. behad khubsurat kavita......kaavy ke kalewar main sugathit bhaav.....dil ko choo gaye aur itne saras kee padhte waqut shabd nazron se zubaan tak aur dil kee gehrayee tak ek hi lay pe chal rahe the......

    khubsurat rachna!

    ...Ehsaas!

    ReplyDelete
  4. ये पापी भगत तुझे माता कहे
    ये ढोंगी जगत तुझे देवी कहे
    बस पाप जो इनके तू धोती रहे
    नहीं धोये तू चाहे तो रोती रहे

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति है......behad khubsurat kavita......dil ko choo gaye aur itne saras kee padhte waqut shabd nazron se zubaan tak aur dil kee gehrayee tak ek hi lay pe chal rahe the......

    chinmay

    ReplyDelete
  6. Shabd nahi mil rahe prashansha ke liye.......adbhut aur adviteey rachna.....

    ReplyDelete
  7. Madam your poetry is Interasting and most Remarkable.

    ReplyDelete